Open/Close Menu Dr. Haldhar Patel | Anmol Health Care

एनीमिया

खून में आयरन की कमी से हीमोग्लोबिन की कमी हो जाने को एनीमिया अर्थात रक्ताल्पता कहते है

आयरन हमारे शरीर मे लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। ये कोशिकाएं ही शरीर मे हीमोग्लोबिन बनाने का काम करती है

इसलिए आयरन की कमी से शरीर मे हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है और हीमोग्लोबिन कम होने से शरीर मे आक्सीजन की कमी होने लगती है क्योंकि हीमोग्लोबिन ही फेफड़ों से आक्सीजन ले कर रक्त में आक्सीजन पहुँचाता है।


बीमारियों का कारण :-


एनीमिया कोई बीमारी नहीं है लेकिन यह कई बीमारियों की वजह जरूर बन सकता है। जीवनशैली के साथ आहार सम्बन्धी आदतों में होने वाला बदलाव इस समस्या के मुख्य कारण के रूप में सामने आ रहा है

बढ़ते बच्चों, स्तनपान कराने वाली महिलाओं, व बीमार व्यक्तियों में एनीमिया का खतरा ज्यादा होता है। विश्व की लगभग 60% महिलाएं और हमारे देश की लगभग 90% महिलाए एनीमिया से पीड़ित है


हीमोग्लोबिन का स्तर :-

स्वस्थ पुरुष के शरीर मे 13 – 16 व महिला में 12 मिलीग्राम प्रति डेसी लीटर हीमोग्लोबिन होना चाहिए


खून की कमी के लक्षण :-

1 आँखे पीली हो जाना


2 कमजोर और थकावट महसूस होना


3 चक्कर आना


4 छाती में दर्द होना एवं सिने में ऐंठन होना


5 त्वचा व नाखुनो का पीला होना


6 माइल्ड यानी हल्के एनीमिया में लक्षण कम नजर आते हैं,

लम्बे समय से हुए एनीमिया के कई लक्षण आसानी से देखे जा सकते हैं :-

1 लेट कर उठने पर आखो के सामने अंधेरा छा जाना

2 सांस फूलना

3 सिर दर्द रहना

4 हाथो और पैरों का ठंडा होने

5 ह्रदय की धड़कन तेज या आसामान्य होना

कुछ निम्न ऐसी परिस्थितियां है जिनमे एनीमिया हो सकती है :-

1 किडनी कैंसर


2 अल्पाहार या कुपोषण


3 हीमोग्लोबिन के जीन में बदलाव


4 थैलेसिमिया


5 केमोथेरेपी


सामान्य उपचार :-

एनीमिया से बचाव का सबसे बेहतरीन उपाय है पौष्टिक आहार लेना है ।

उपचार :-

हर्बल मेडिसीन “HAEMATO KIT” के द्वारा एनीमिया को पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है।

जटिल एवं आसाध्य रोगों का वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति द्वारा आसान समाधान।

सम्पर्क :- अनमोल हेल्थ केयर

“डॉ हलधर पटेल”
9098472777

“अपने संपर्क में जरूर साझा करें धन्यवाद।”

Write a comment:

*

Your email address will not be published.

For emergency cases        +91-9098472777