Open/Close Menu Dr. Haldhar Patel | Anmol Health Care

बेरी बेरी

विटामिन बी-1 की कमी से उत्पन्न कुपोषण जन्य रोग है। इसे पॉलिन्युरॉइटिस इंडेमिका, हाइड्रॉप्स ऐस्थमैटिक्स , बारबियर्स आदि नामो से भी जानते हैं । बेरी – बेरी का अर्थ है “चल नहीं सकता”। संसार के जिन क्षेत्रों में चाँवल मुख्य आहार है , उनमे यह रोग विशेष रूप से पाया जाता है।

रोग के कारण– विटामिन बी 1 उसना चावल , कुटे और कम पालिश किए चावल में पाया जाता है इसके साथ साथ अंकुरित दाल,सूखे मेवे और बीजों में बी1बहुत मिलता है। *ऐसे व्यक्ति जो लंबे समय से पालिश किया हुआ चावल ,सफेद आटा और चीनी का प्रयोग करते हैं उनमें बी 1की कमी पायी जाती है।*

लक्षण- विटामिन बी1की क्षीणता आरम्भ होने के बाद 2 – 3 माह बाद बेरी -बेरी के लक्षण प्रकट होते है।बहुतंत्रिका शोध, धड़कन के दौरे, तथा दुर्बलता रोग जिस तंत्रिका को पकड़ता है उसी के अनुसार अन्य लक्षण प्रकट होते है।बेरी -बेरी बार -बार हो सकती है।

प्रकार :-

1. सूक्ष्म :- इसमे रोगी सचल रहता है पैर सुन्न होना, विभिन्न स्थलो का संवेदना शून्य होना इसके लक्षण है और आहार में बी 1 यूक्त भोजन का समावेश होने से रोग गायब हो जाता है।

2. तीव्र :- यह सहसा आरंभ होती है , भूख बन्द हो जाती है, उदर के ऊपरी भाग में कष्ट, मितली,, पैरों के सामने के हिस्से में संवेदन शून्यता और विकृत संवेदन,संकुलताजन्य ,हृदय विफलता और तीव्र हृदय विफलता के कारण कुछ घंटों से लेकर कुछ ही दिनों तक के अंदर मृत्यु।

3 आर्द्र :- इसमे विकृत संवेदन,हाथ मे भारीपन ,झटके, पिडली में स्पर्श में कमी, संवेदना का मंद होना ,अतिसंवेदन या संवेदन शून्यता, दुर्बलता, उठकर खड़े होने की असमर्थता ,पैरों पर शोथ ,श्वाश लेने में तकलीफ आदि लक्षण होते है।

4 शुष्क :- इसमें पाचन की गड़बड़ी नहीं मिलती पर मांसपेशियां दुर्बल होकर सूखने लगती है। हृदय में दुर्बलता, हाथ पैर में शून्यता, पिंडली में ऐंठन और पैर बर्फ से ठंडा रहता है। बैठने पर उठकर खड़ा होना कठिन होता है।

निदान :- लक्षणों ,पोषण के इतिहास, सावधानी से रोगी की परीक्षा एवं मूत्र में विटामिन बी1 की मात्रा देखकर इसका निदान किया जाता है।

जटिल एवं आसाध्य रोगों का वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति द्वारा उपचार

अनमोल हेल्थ केयर

डॉ हलधर पटेल एवं समूह

9098472777

अपने संपर्क में जरूर साझा करें धन्यवाद

Write a comment:

*

Your email address will not be published.

For emergency cases        +91-9098472777