Open/Close Menu Dr. Haldhar Patel | Anmol Health Care


अस्थमा एक सांस की बीमारी है और यह बड़ी तखलिफ देह होती है और यह गम्भीर बीमारियों की श्रेणी में आती है।

असल मे अस्थमा में हमारी सांस लेने की नलिकाएं जो है वो सबसे अधिक प्रभावित होती है। और उनमें सूजन आ जाती है। जिसकी वजह से सांस लेने में समस्या होती है और नलिकाओं में संकुचन हो जाने के कारण हमारे फेफड़ों की कार्यक्षमता में भी कमी आती है और उनमें हवा की मात्रा कम हो जाती है। जिसकी वजह से सांस लेने में भी दिक्कत होती है। अस्थमा इसलिए ही तो तकलीफ देह होता है।

अपनी प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करें और इस महामारी में भी अपने आप को परिवार को सुरक्षित रखे ABI KIT से 👈👈खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे


अस्थमा की समस्या होने के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कत सांस लेने में होती है और साथ ही सिने में दर्द की भी शिकायत होती है। कफ और बलगम की समस्या भी जोर पकड़ लेती है और नींद लेते समय भी परेशानी का सामना करना पड़ता है ऐसे में कुल मिलाकर हम कह सकते हैं कि आदमी को हर समय सही से सांस नहीं ले पाने की दशा में घुटन महसूस होता रहता है।

कैल्शियम के लिए दूध के अलावा क्या क्या हो सकता है विकल्प??? 👈👈इसे भी पढ़े

साफ सफाई करने के दौरान धूल से या गांवों में चूंकि इंधन के तौर पर लकड़ी का उपयोग होता है ऐसे में धुँए में और शहरों में प्रदूषण की वजह से बाहर के मौसम में बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

अस्थमा पीड़ित व्यक्ति की कार्यक्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है क्योंकि जरा सी देर काम करने से उसकी सांस फूलने लगती है। दुनिया की पूरी आबादी में कम से कम 30 करोड़ लोग इस रोग से पीड़ित है जिसमे बच्चों की संख्या 14% है।

मासिक धर्म का ना आना क्या कहलाता है, इसके कारण ऐसी परेशानियां होती हैं : डॉ राधिका 👈👈इसे भी पढ़े


अस्थमा के लक्षण :-

1 जब अस्थमा रोग से पीड़ित रोगी को दौरा पड़ता है तो उसे सुखी या ऐठनदार खाँसी होती है।


2 जब रोग बहुत अधिक बढ़ जाता है तो दौरा आने की स्थिति उत्पन्न हो जाती है जिससे रोगी को सांस लेने में बहुत अधिक दिक्कत आती है तथा व्यक्ति छटपटाने लगता है।


3 अस्थमा रोग से पीड़ित रोगी का कफ सख्त , बदबूदार तथा डोरिदार निकलता है।


4 पीड़ित रोगी को सांस लेने में बहुत अधिक कठिनाई होती है।


5 यह रोग स्त्री पुरुष दोनों को हो सकता है।


6 रात के समय मे लगभग 2 बजे के बाद दौरे अधिक पड़ते हैं।


7 रोगी को रोग के शुरुआती समय मे खाँसी सरसराहट और सांस उखड़ने के दौरे पड़ने लगते हैं।


8 सांस लेते समय अधिक जोर लगाने पर रोगी का चेहरा लाल हो जाता है।


9 सांस लेते समय हल्की हल्की सिटी बजने की आवाज भी सुनाई पड़ती है।


10 सांस लेने तथा सांस को बाहर छोड़ने में काफी जोर लगाना पड़ता है।

उपचार :- हर्बल मेडिसिन “ASTHMA KIT” के द्वारा अस्थमा को पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है।

किट मंगाने के लिए यहाँ क्लिक करे 👈👈 या 9098472777 पर कॉल करें

जटिल एवं आसाध्य रोगों का वैकल्पिक चिकित्सा द्वारा आसान समाधान

सम्पर्क :- “अनमोल हेल्थ केयर “

हमारे चिकित्सक से मिलने या Video Consultation लेने के लिए 👈👈यहां क्लिक करें

“डॉक्टर हलधर पटेल”
9098472777

“अपने संपर्क में जरूर साझा करें धन्यवाद।”

Write a comment:

*

Your email address will not be published.

For emergency cases        +91-9098472777